Sunday, 22 October 2017

72. खूनी वारदात- ओमप्रकाश शर्मा जनप्रिय लेखक

अपने पति की हत्या के आरोप में जेल में बंद एक स्त्री की कहानी।
खूनी वारदात, जासूसी उपन्यास, मध्यम स्तरीय।

जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा का ' तीन गायब' के  बाद 'खूनी वारदात' यह द्वितीय उपन्यास है जो मैंने पढा।

  जेल से भारत के राष्ट्रपति के नाम एक पत्र पहुंचा।
  पत्र भेजने वाली का नाम यशोधरा था और उसे पुलिस ने अपने पति प्रेमनाथ की हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया था।
   पत्र में राष्ट्रपति को पूज्य पिताजी के नाम से संबोधित किया गया।
पत्र में अपना परिचय देते हुए उसने लिखा था- मेरा नाम यशोधरा है और मैं मृत प्रेमनाथ की विधवा हूँ।
    आप विश्वास कीजिए मैं नहीं जानती की मेरे परि का खून किसने किया, क्यों किया और किस समय किया।
मैंने आपको पिताजी कहा है और कोई भी अच्छी बेटी पिता से झूठ नहीं बोला करती। (पृष्ठ -5, कहानी का प्रथम दृश्य)
जब यह पत्र राष्ट्रपति के माध्यम से खुफिया विभाग में पहुंचा तो वहाँ से जगन, जगत, पचिया और बंदूक सिंह को इस मामले की सत्यता पता लगाने के लिए नियुक्त किया गया।
    जब चारों इस मामले की खोजबीन में लगे तो एक यशोधरा की हत्या का प्रयास किया गया और एक बार जगन पर कातिलाना हमला हुआ।
   पर अतंतः चारों अपने अभियान में सफल रहे।
- प्रेमनाथ का खून किसने किया?
- यशोधरा को कातिल किसने ठहराया?
- बंद कमरे में प्रेमनाथ का कत्ल किसने किया?
- यधोधरा पर हमला किसने व क्यों करना चाहा?
- जासूस पार्टी पर हमला किसने किया?
  ऐसे एक नहीं अनेक प्रश्नों के उत्तर तो जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा के उपन्यास खूनी वारदात को पढकर ही मिल सकते हैं।
          उपन्यास में चार जासूस मुख्य हैं और उनके सहायक भी हैं। चारों पात्रों के साथ लेखक इंसाफ नहीं कर पाया और इस चक्कर में कोई भी पात्र अपनी पहचान नहीं छोङ पाया।
    एक पात्र पचिया( जिसका वास्तविक नाम नहीं नहीं दिया गया) है जो थोङा-बहुत उपन्यास में प्रभाव स्थापित कर पाया है।
           प्रस्तुत उपन्यास एक मध्यम स्तर का उपन्यास है जिसे अनावश्यक रूप से विस्तार दिया गया है। और विस्तार भी ऐसा जिसका कोई महत्व ही नहीं है। चारों जासूसों की वार्तालाप को काफी लंबा खींचा गया है इसके अलावा उर्वशी क्लब, चित्रलेखा- मोहिनी से बातचीत भी बार-बार व अनावश्यक रूप से दिखा कर उपन्यास को विस्तार दे दिया गया है।
      उपन्यास में एक बंदूक सिंह के अलावा अन्य कोई भी जासूस ऐसा नहीं लगता की वह कातिल की तलाश कर रहा है। पचिया एक जगह बस इतना पता लगा पाता है की कातिल किस रास्ते से कमरे में घुसा। बाकी समय तो सभी जासूसी दल अपनी व्यर्थ की वार्तालाप में समय बिता देता है।
  और कातिल में उन्हें अनायास ही हाथ लग जाता है। स्वयं पचिया भी यही बात कहता है- " यह मात्र संयोग ही है की कातिल अनायास ही इतनी जल्दी मिल गया।"(पृष्ठ 233)

      शराब और शराबी के विषय में स्मरणीय बात कही है जो मुझे अच्छी लगी, आप भी पढ लीजिएगा-
  " एकदम गलत बात है। शराब पीने से इंसान अपनी चिंता भूल पाता है और अपने दुख भूल पाता है। इंसान शराब पीता है मन के आनंद के लिए और उसे कुछ आनंद मिलता भी है। इसके बाद वह सोचता है कि अगर और पिएगा  तो और आनंद मिलेगा। परंतु वह यह भूल जाता है कि अधिक शराब पीने से या तो वह बेहोश हो जाएगा या उसके मन की कामनाएं और भी भङक उठेंगी।"- (137)
             यह एक मध्यम स्तरीय जासूसी उपन्यास है जिसे टाइमपास के लिए एक बार पढा जा सकता है लेकिन उपन्यास में कोई याद रखने योग्य कोई विशेष बात नहीं है।
---------
उपन्यास- खूनी वारदात
लेखक- जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा
प्रकाशक- शिवा पॉकेट बुक्स- मेरठ
पृष्ठ- 237
मूल्य- 15₹

Thursday, 19 October 2017

71.कृष्ण बना कंस- अनिल सलूजा

एक बहन के हत्यारे की कथा, जिस पर बहन से बलात्कार करने का आरोप था।
कृष्ण बना कंस, थ्रिलर उपन्यास, एक्शन,  पठनीय।

    "औरत के आंसू किस कदर पत्थर को भी मोम में बदल देते हैं- चाहे वे आंसू मगरमच्छी ही क्यों हों। आंसूओं के रूप में औरत के पास एक ऐसा खतरनाक हथियार है, जो किसकी जिंदगी को तबाह कर दे, कहा नहीं जा सकता।
          ऐसे ही मगरमच्छी आंसूओं का सहारा लेकर, एक औरत ने रीमा राठौर को इस कदर फंसाया कि वह बेगुनाह इंसान राक्षस बनने को मजबूर हो गया।" (लेखक की कलम से)
          

रीमा राठौर से हुयी एक छोटी सी गलती ने, उसकी जिंदगी को उस मोङ पर ला खङा किया, जहाँ उसे हर तरफ खून ही खून नजर आने लगा।

उस पर बहन से बलात्कार का आरोप था, और उसने बहन की हत्या कर दी। अपने जीजा को भी मार दिया और अब उसे तलाश थी उस वकील रीमा राठौर की जिसके कारण उसे सजा हुयी।
       रीमा राठौर की तलाश में निकले किशन ने अपनी बेगुनाही साबित करने की जगह लाशों के ढेर लगा दिये और वह भी बेवजह।
   अनिल सलूजा द्वारा लिखा गया रीमा राठौर सीरिज एक ऐसे युवक की कहानी है जिस पर अपनी बहन से बलात्कार का आरोप था, उसे सजा हुयी। वह जेल से भाग निकला और अपनी बहन व जीजा की हत्या कर दी।
      उपन्यास में  प्रतिशोध की कहानी है। उपन्यास का प्रमुख पात्र किशन उपन्यास के आरम्भ में ही जेल से फरार होकर अपना बदला ले लेता है। तब पाठक सोचता है की आगे क्या होगा अब आगे होने को कुछ भी नहीं है। जो होना था उपन्यास के आरम्भिक बीस पृष्ठ में हो जाता है बाकी दो सौ पृष्ठ लेखक ने अनावश्यक रूप से ही बढा दिये।
      अब किशन उन लोगों से बदला लेने लग जाता है जो उसके जीजा के बुरे कामों के साथी थे। हालांकि किशन को जेल करवाने में उनका किसी प्रकार का कोई योगदान नहीं है, पर लेखक महोदय ने बेतुकी कहानी पाठक के आगे परोस दी।
        
  पूरे उपन्यास में मात्र एक दो संवाद हैं जो पठनीय है बाकी तो सामान्य कथन मात्र हैं। हालांकि थ्रिलर उपन्यासों में अच्छे संवादों का इतना महत्व नहीं होता लेकिन फिर भी अच्छे संवाद पाठक को सदा याद रहते हैं।
" यह रिश्ते नाते शरीफों के तबके में पहचाने जाते हैं। हमारे तबके में ऐसे किसी भी रिश्ते की अहमियत नहीं होती।"-(पृष्ठ 50)

- " इस दुनिया का सबसे खतरनाक गुस्सा, शरीफ आदमी का ही गिना जाता है। जब वह जुनून में आता है तो पूरी दुनिया को खत्म करने से भी पीछे नहीं हटता।"-(पृष्ठ 103)

उपन्यास में गलतियां:-
उपन्यास में कुछ गलतियां तो ऐसी हैं जिन्हें मेरे विचार से लेखक उपन्यास को दोबारा पढता तो दूर कर सकता था।

" कानून में पहले प्रावधान था कि अगर किसी औरत की इज्जत लुटती थी, तो उसे साबित करना पङता था कि उसकी वाकई में इज्जत लुटी...मगर अब कानून का यह प्रावधान बदल दिया गया है ....उस आदमी को साबित करना पङता है कि वह बेगुनाह है।"-(पृष्ठ 74)
       मुझे नहीं लगता की कानून में ऐसा कोई प्रावधान है। ऐसे तो कोई भी महिला किसी भी पुरुष पर इल्जाम लगा देगी और पुरुष कैसे साबित करेगा।
- उपन्यास में किशन का कोई मेडिकल टेस्ट नहीं होता जबकि बलात्कार में सबसे पहले मेडिकल टेस्ट ही होता है।
- रमेश सहगल के घर से कुछ गुण्डे शादी की एलबम से फोटो चुरा कर ले जाते हैं, भले आदमी एक-एक फोटो निकालने में कितना समय लगता है, पूरी एलबम ही उठाकर ले जाता। (पृष्ठ 91-92)
- पृष्ठ संख्या 118,
पुलिस की गाङी ऐन रीमा राठौर के करीब आकर रुकी।
......
"लेकिन कार में किसी की लाश नहीं ....." (पृष्ठ 118)
जब इंस्पेक्टर कार के पास ही नहीं गया तो उसे दूर से कैसे पता चल गया की कार में कोई नहीं।

       अनिल मोहन का एक उपन्यास ' दहशत का दौर' पढा था। जिसका नायक लगातार हत्या पर हत्या करता चला जाता है और कहीं पर उसका बाल भी बांका नहीं होता उसी प्रकार इस उपन्यास का मुख्य पात्र किशन भी हर जगह पहुंच कर हत्या दर हत्या करता रहता है।
    उपन्यास खाली समय में एक बार पढा जा सकता है।
----------
उपन्यास- कृष्ण बना कंस
लेखक- अनिल सलूजा
प्रकाशक- रवि पॉकेट बुक्स- मेरठ
पृष्ठ- 222
मूल्य- 20₹
श्रृंखला- रीमा राठौर सीरिज

लेखक संपर्क-
अनिल सलूजा
मकान नंबर- 494
वार्ड नंबर- 12
पानीपत , हरियाणा

Monday, 16 October 2017

69. तीन बजकर बीस मिनट- तीर्थराम फिरोजपुरी

3  बजकर 20 मिनट, जासूसी उपन्यास, मर्डर मिस्ट्री, रोचक।
----------------
जुलाई का महिना, बृहस्पति वार और 9 तारीख थी। सिवोल कस्बे के जीन बर्नाड और उसका लङका फिलीप  चार बजे लगभग मछलियाँ पकङने घर से निकले थे।.......?
........जिस खौफनाक दृश्य ने फिलीप को सहमा दिया था वही अब जीन के सामने था जिस पर बेहोशी सी छायी हुयी थी। नदी के किनारे के पास, बगीची की सीमा में एक खूबसूरत औरत की लाश पङी थी। उसके लंबे -लंबे बाल बिखरे थे और पानी से तर थे। रेशमी पोशाक खून और मिट्टी से लथपथ और सिर कीचङ में ङूबा हुआ था।
नदी के किनारे एक बाग था काउंट डी ट्रिम्यूरल का।-(पृष्ठ संख्या 1-2)

             यह कहानी है पेरिस शहर के एक कस्बे सिवोल की। जहां पर कस्बे के नबाव काउंट डी ट्रिम्यूरल की पत्नी की हत्या हो जाती है और नबाव का कोई अता-पता नहीं। कुछ सबूतों के आधार पर पुलिस का मानना है की नवाब की हत्या कर लाश नदी में बहा दी गयी। घर पर बुरी तरह से लूटपाट के सबूत मिलते हैं।
स्थानीय जज, मजिस्ट्रेट और मेयर खुफिया पुलिस की मदद लेते हैं।
    खुफिया पुलिस का अधिकारी एम. लिकाक जब इस मामले की खोजबीन करता है तो उसे कहानी कुछ और ही नजर आती है।
"मालूम होता है हत्यारे ने कोई शोर या आवाज बाग में सुनी है और वह कुल्हाङी को जल्दी से इस जगह फेंक कर निकल गया है....घङी का समय गलत कर देना, कुल्हाङी यहाँ फेंकना, यह सब किसी जासूस को भ्रम में डाल पाने के लिए काफी है।......इसी तरह मेज पर शराब की बोतल और पाँच गिलास रख दिये गये हैं ताकि ऐसा लगे हत्यारे पाँच थे।" (पृष्ठ 31)
   हत्यारों/हत्यारे ने जो सबूत बता स्थापित किये थे उसे लिकाक पहली नजर में ही पहचान जाता है और जब वह अपनी खोजबीन को आगे बढाता है तो उसे नवाब का एक नया रूप देखने को भी मिलता है।
नवाब - जिसने अपनी कई प्रेमिकाएं बदली और धन के लिए स्वयं भी बदल गया। लिकाक को यह भी पता चकता है की नवाब न तो इस जगह का निवासी है और न ही इस घर का मालिक और सबसे बङी बात की उसकी बेगम भी कभी उसके अच्छे मित्र एम. सावरसी(सवारसी) की पत्नी थी।
जब सावरसी को अपने मित्र और अपनी पत्नी की बेवफाई का पता चला तो उसने मरने से पूर्व एक ऐसा षड्यंत्र रचा जिसमें उसकी पत्नी व नवाब को एक अनोखी सजा मिलनी तय थी।
   सावरसी बोला-" .....तुम दोनों को मालूम हो गया होगा कि मैंने तुम्हारे चारों ओर ऐसा जाल फैलाया है जिससे तुम निकल ही नहीं सकते।"- (पृष्ठ 120)
उपन्यास के पात्र-
1. जीन बर्नाड- स्थानीय निवासी।
2. फिलिप- जीन का पुत्र। जिसने सर्वप्रथम लाश देखी।
3. कोरटायस- कस्बे का मेयर। लोरेंस का पिता।
4. लोरेंस- मेयर की पुत्री। नवाब की प्रेमिका।
5. नवाब काउंट डी ट्रिम्यूरल- कस्बे का एक अमीर व एय्याश आदमी। कावरसी का मित्र।
6. सावरसी कस्बे का अमीर आदमी। बिरथा का पहला पति।
7. बिरथा- नवाब की बेगम। कावरसी की पत्नी।
8. डाक्टर जिंदरान- लिकाक की सहायता करने वाला एक अच्छा डाॅक्टर।
9. डाक्टर रुबेल्ट- स्थानीय डाॅक्टर। जिसने मजिस्ट्रेट को मारने की कोशिश की।
10.प्लटिंट- मजिस्ट्रेट।
11. जैनी- नवाब की प्रथम प्रेमिका।
12. गस्पन- नवाब का नौकर।
13. अन्य और भी बहुत से गौण पात्र।

संवाद-
   उपन्यास के संवाद पाठक को प्रभावित नहीं करते। उपन्यास पढते वक्त ऐसा महसूस होता है जैसे अंग्रेजी उपन्यास का अनुवाद हो।
कुछ पठनीय संवाद देख लीजिएगा-
इंसानी जिंदगी अँगूरों की टोकरी की तरह है। कुछ आदमी एक-एक दाना उठाकर खाते हैं और कुछ सब अंगूरों को एक ही बार में निचोङकर पी जाना पसंद करते हैं।-(पृष्ठ-63)

उपन्यास की कहानी रोचक है लेकिन अपनी भाषा शैली के कारण उपन्यास मात खा जाता है।
कहीं- कहीं तो लेखक शब्दों की इतनी बचत कर गया की पाठक को समझने के लिए बहुत मेहनत करनी पङती है।
शीर्षक-
            उपन्यास के शीर्षक का कहीं कोई औचित्य भी नहीं है। हत्या के वक्त जब घङी नीचे गिर कर बंद हो जाती है तो उसमें समय था रात के तीन बजकर बीस मिनट।
    लेकिन बाद में स्वयं जासूस महोदय यह साबित कर देते हैं की यह समय हत्यारे ने घङी में फिक्स किया था ताकी पुलिस इस समय के अनुसार भटक जाये।
         उपन्यास का एक पात्र सवारसी है या सवारसी पता ही नहीं चलता बार- बार उसका नाम बदलता रहता है। हालांकि यह गलती टाइपिस्ट की है।
        
    तीर्थराम फिरोजपुरी का तीन बजकर बीस मिनट एक मर्डर मिस्ट्री उपन्यास है। रोचक है पठनीय है। अगर इस उपन्यास की संवाद शैली और कुछ दृश्यों पर और मेहनत की जाती तो यह एक अच्छा, बहुत अच्छा उपन्यास साबित हो सकता था।    लेकिन लेखक/संपादक महोदय की मेहनत की कमी स्पष्ट झलकती है।
         फिर भी मनोरंजन की दृष्टि से यह 150 पृष्ठ का उपन्यास पाठक को निराश नहीं करेगा।
----------------
उपन्यास-  3 बजकर 20 मिनट
लेखक- तीर्थराम फिरोजपुरी
प्रकाशक- अशोक पॉकेट बुक्स- दिल्ली
पृष्ठ-150.
  उपन्यास उपलब्ध है-
राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय- माउंट आबू-सिरोही(राजस्थान)
सरस्वती पुस्तकालय,   पुस्तक क्रमांक- 4058/508

Saturday, 14 October 2017

70. तांत्रिक पण्डित- तांत्रिक बहल

तांत्रिक पण्डित की हाॅरर सीरिज
तांत्रिक पण्डित, हाॅरर उपन्यास, एकदम बकवास।

हिंदी लोकप्रिय उपन्यास साहित्य में हाॅरर उपन्यास बहुत कम लिखे गये हैं, और उनमें से भी रोचक उपन्यास तो नाम मात्र ही उपलब्ध होते हैं।
हाॅरर उपन्यासकार राज भारती, शैलेन्द्र तिवारी के पश्चात अगर किसी हाॅरर लेखक का नाम सुना था तो वह है तांत्रिक बहल।
    तांत्रिक बहल एक लेखक होने के साथ-साथ यौगिक क्रियाओं के ज्ञाता भी हैं और देश भर में इनके अनुयायियों की संख्या भी खूब है। समय -समय ओर विभिन्न जगहों पर अनुष्ठान आदि भी करते रहते हैं।
   तांत्रिक बहल आज भी फेसबुक पर सक्रिय हैं।
तांत्रिक बहल का प्रस्तुत उपन्यास 'तांत्रिक पण्डित' मित्र शशि भूषण से प्राप्त हुआ। मेरी हार्दिक इच्छा थी तांत्रिक बहल के उपन्यास पढने की पर इस उपन्यास के पश्चात यह इच्छा समाप्त हो गयी।

   प्रस्तुत उपन्यास के नायक तांत्रिक पण्डित हैं। इस उपन्यास में उनके जीवन की विभिन्न घटनाओं का जिक्र है, बस।
उपन्यास में कोई एक कहानी नहीं है, बस छोटी-छोटी घटनाएं है और वह भी अव्यवस्थित। कहीं कोई पात्रों का या घटनाओं का तारतम्य नहीं है।
  उपन्यास का नायक है तांत्रिक पण्डित जो की एक सदमार्ग पर चलने वाला तांत्रिक है।
  "मैं तांत्रिक पण्डित हूँकायाकल्प साधना कर मैं इस रूप मेंगया। दुखी, असहाय लोगों के हितों की रक्षा के लिए मैंने तंत्र शास्त्रों सहारा लिया है। अन्याय, अत्याचार को समाप्त करने के लिए मैंने शस्त्र का नहीं शास्त्र का सहारा लिया है। मेरा पक्का विश्वास है- सद्विचार वाला मनुष्य कभी अकेला नहीं होता है।"-(पृष्ठ-157)
पाठक को पढते वक्त यह भी पता नहीं चलता की वह क्या पढ रहा है। आधी-अधूरी घटनाओं और पात्रों को एकत्र कर एक उपन्यास का नाम दे दिया।
  उपन्यास के प्रारंभ में कुछ घटनाएं ऐसी दर्शायी गयी हैं जो पूर्णतः अधूरी है और बाद में पूरे उपन्यास में उन घटनाओं का और उन पात्रों का कहीं कोई नाम भी नहीं आता।
  मुझे समझ में नहीं आता की लेखक ने ऐसा उपन्यास लिख कैसे दिया और उस पर प्रकाशन महोदय ने प्रकाशित भी कर दिया।
   कहीं-कहीं तो पात्र पुरुष होता है वहीं बाद में उसे स्त्रीलिंग शब्दों से संबोधित किया गया है।..अजीब है।
- तांत्रिक पण्डित बदमाश रामू भईया को पीटते हैं, क्यो? इसका कोई कारण समझ में नहीं आता। (पृष्ठ- 11-13)
- गुल खान का भी ऐसा ही दृश्य है।(पृष्ठ 32-33)
- पृष्ठ संख्या 38-39 पर पहले जिस शख्स को पुरुष लिंग से संबोधित किया जाता है बाद में उसे स्त्री लिंग से संबोधित कर दिया गया।
- पूरे उपन्यास में यह भी पता नहीं चलता की तांत्रिक पण्डित की पत्नी कौन है।
- एक पत्नी को तो काली यादव मार देता है। (पृष्ठ 45-47)
- बाद में शीनू नामक तांत्रिक पण्डित की एक और पत्नी दिखा दी। वह भी कुछ पृष्ठों बाद गायब हो जाती है। (पृष्ठ 100 के आसपास की घटनाएं)
   हालांकि उपन्यास पढने पर पता चलता है की अपने परिवार के खत्म होने के पश्चात रामाश्रय प्रसाद योग सिद्धि से तांत्रिक पण्डित बन गया।
- अब पता नहीं उसकी कौन सी पत्नी है।
ऐसी एक नहीं अनेक गलतियां उपन्यास में भरपूर है।
   उपन्यास में अगर कुछ अच्छा कहा जा सकता है तो वह है कुछ तांत्रिक जानकारी या जीवन- मरण संबंधित कुछ अनमोल कथन।
" जन्म एवं मरण एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। जन्म जीव की  निरंतर यात्रा का क्रियाशील भाग है तो मृत्यु विश्राम हेतु पङाव। दोनों की उत्पति का हेतु भी एक ही है। मृत्यु सत्य, शिवं, सुंदर है।"- (पृष्ठ-90)
" जन्म अर्ध सत्य है और और मरण पूर्ण सत्य है। शरीर में आत्मा के प्रवेश को जन्म तथा प्रस्थान को मृत्यु कहा जाता है।"(पृष्ठ 90)
"विधाधरों की तीन प्रमुख साधनायें मानी गयी हैं- जैन साधना, वैष्णव साधना और मुस्लिम साधना।"-(पृष्ठ-235)

  प्रस्तुत उपन्यास  किसी भी दृष्टि से पठनीय उपन्यास नहीं है। यह मात्र तात्कालिक समय में पाठकों की हाॅरर उपन्यास पढने की इच्छा का फायदा उठाने का प्रकाशक का एक जरिया है।
    लेखक और प्रकाशन अगर मेहनत करते तो अच्छे हाॅरर उपन्यास लिखे जा सकते है।

     

-------
उपन्यास- तांत्रिक पण्डित
लेखक- तांत्रिक बहल
प्रकाशक- रवि पॉकेट बुक्स- मेरठ
पृष्ठ- 280
मूल्य- 25₹
श्रृंखला- तांत्रिक पण्डित सीरिज।

तांत्रिक पण्डित के उपन्यास
1. तंत्र भैरवी
2. तांत्रिक पण्डित
3. कपाल भैरवी

Friday, 13 October 2017

68. नीली आँखों वाली लङकी- राज भारती

सीक्रेट एजेंट सागर का एक खूनी कारनामा।
नीली आँखों वाली लङकी, जासूसी उपन्यास, रोचक।

पवन पॉकेट बुक्स से प्रकाशित राज भारती का उपन्यास ' नीली आँखों वाली लङकी'  अपनी कौम की आजादी के लिए मुस्कुराते हुए अपनी जान देने वाली उन विरांगनाओं की कहानी जिन्होंने अपनी कौम व अपने मुल्क का भविष्य ही बदल दिया.....(मुख्य पृष्ठ से)
यह कहानी है सिलौन (वर्तमान श्री लंका) के दक्षिण में बसे एक स्वतंत्र टापू आइसलैण्ड की।
वहाँ का शासक था जुल्लू सरदार। शासक कम और अत्याचारी ज्यादा। कुछ स्वतंत्रता प्रेमी लोगों ने मिलकर शासक के विरुद्ध आवाज उठा दी। लेकिन जुल्लू सरदार ने सब स्वतंत्रता प्रेमियों को मरवा दिया।
   अपने अंत समय में जुल्लू सरदार ने जनता से लूटी अथाह दौलत वहाँ की किसी गुफा में छुपा दी।
इस रहस्य का पता कुछ ही लोगों को था, पर वह खजाना कहां है, पक्की जानकारी किसी के पास न थी, जो भी जानकारी थी, वह अधूरी और कोङवर्ड में थी।
    स्वतंत्रता प्रेमियों की विधवाओं ने एक संगठन ' सूरज के बेटे' बनाया वहीं एक अन्य क्रांतिकारियों का संगठन भी है जिसने एक आॅप्रेशन 'ब्लास्ट' के लिए चीनी सरकार से हाथ मिला लिया ।
इस छोटे से टापू पर अब तीन दल हैं लेकिन तीनों का एक मकसद समान है और वह है खजाने को ढूंढना।
सूरज के बेटे संगठन की प्रमुख पायला भारत सरकार की मदद लेती है और भारतीय सिक्रेट सर्विस का जासूस सागर उनकी मदद के लिए आइसलैंड आता है।
खजाने की खोज के लिए जब तीन संगठन आपस में टकराते हैं तो टापू पर तबाही का मंजर उठ खङा होता है।

प्रस्तुत उपन्यास की कहानी बहुत अच्छी है पर लेखक/संपादक की कमी से कहानी प्रभावशाली न बन सकी।

नीली आंखों वाली लङकी- राज भारती

नीली आँखों वाली लङकी कहानी है ममता और निशा की।
निशा एक जासूस है लेकिन उसकी शक्ल‌ ममता नामक एक लङकी से मिलती है।
सिंगापुर से लौटते वक्त निशा के चक्कर में कुछ लोग ममता का अपहरण कर लेते हैं।
राणा, देव और शालू ये तीनों कहानी के खलनायक हैं। राणा और देव जिस कम्पनी में काम करते हैं वहाँ से डायमंड भी चुराते हैं। जब निशा को इस बात का पता चलता है तो राणा और देव एक प्लान ‌के तहत  को निशा के अपहरण के‌ लिए शालू को  राजी कर लेते है लेकिन गलती से शालू ममता का अपहरण कर  लेती है।
एक तो डायमंड चोरी के राज खुल जाने का डर दूसरा निशा की जगह ममता का अपहरण ।
दोनों तरफ से फंस जाते है तीनों ।
उपन्यास का समापन बहुत ही रोचक व हैरतंगेज है।
- ममता का अपहरण व बार-बार उसका भागना और हर बार पकङा जाना।
- राणा का निशा के फ्लैट में चोरी से घुसना और फिर वहाँ सागर का आ जाना।
- राणा का दौलत के लिए पाशविक बन जाना।
आदि उपन्यास के रोचक अंग हैं
     उपन्यास में एक जगह जिस कमरे में ममता कैद है इसकी चाबी राणा ले गया और फिर शालू ने वह गेट चाबी से खोल दिया।
उपन्यास में एक-दो सामान्य से कमियाँ रह जाती हैं, लेकिन उपन्यास पठनीय है।
   अधिकतर उपन्यासों में ये तो है की शीर्षक कहानी पहले होती है और उपन्यास के पृष्ठ बढाने के लिए एक उपन्यास में एक लघु उपन्यास जोङ दिया जाता है। पर इस उपन्यास में शीर्षक नीली आँखों वाली लङकी उपन्यास बाद में दिया है और उससे पहले राजभारती का एक अन्य अनाम उपन्यास दे दिया।
दोनों कहानियों का आपस में कोई संबंध नहीं बस दोनों में सिक्रेट सर्विस का एजेंट सागर उपस्थित है। दोनों कहानियों को एक पंक्ति सागर आइसलैंड से सिंगापुर जा पहुंचा से जोङ दिया।
      दोनों कहानियाँ रोचक है और पठनीय है।
  
--------
उपन्यास- नीली आँखों वाली लङकी
लेखक- राज भारती
प्रकाशक- पवन पॉकेट बुक्स-दाईवाङा, नई सङक-दिल्ली
पृष्ठ- 304
मूल्य- 20
श्रृंखला- सागर सीरिज
लेखक का पता
राज भारती
B-197, वेस्ट पटेल नगर।
दिल्ली- 110006