Friday, 30 December 2016

वन नाइट@द काॅल सेंटर

'five point someone' के बाद चेतन भगत का दूसरा उपन्यास है ''one night @the call center'।
जहां इनका प्रथम उपन्यास IIT करने वाले तीन विद्यार्थियों की कहानी कहता है तो वहीं इनका दूसरा उपन्यास 'one night @the call center' एक काॅल सेंटर में काम करने वाले पांच युवाओं की कहानी कहता है।
  चेतन का प्रस्तुत उपन्यास गुडगाँव के एक काॅल सेंटर में कार्यरत पांच युवाओं की एक रात की कहानी कहता है। यह रात उनकी अन्य रातों से अलग भी है।
  पाँच युवा और एक बुजुर्ग को आधार बना कर लिखे गये इस उपन्यास में मौज-मस्ती करने वाले उन युवाओं की कहानी है जो अंदर से टूट गये हैं। पर संघर्षरत हैं।
उपन्यास के पात्र-
इस उपन्यास का मुख्य किरदार है श्याम जो इस उपन्यास का सूत्रधार भी है‌।
इसके अलावा इस में श्याम के साथ काम करने वाले मित्र है, व्रुम, राधिका, प्रियंका, ईशा, शैफाली, कर्नल अंकल, बाॅस बख्शी।
उपन्यास का एक महत्वपूर्ण व विशेष पात्र है वह है भगवान।
इन पात्रों के अलावा अन्य कई जो उपन्यास की कथा को आगे बढाने में सहायक है।
पात्र चरित्र चित्रण-
  उपन्यास के सभी पात्र सशक्त उपन्यास की कथा की कथा को आगे ले जाने में सहायक हैं।
जहां श्याम कहानी का सूत्रधार व नायक है, वहीं व्रुम, ईशा, राधिका, प्रियंका आदि श्याम के सहयोगी हैं, पर कहानी के विशेष पात्र। जिनकी अपनी-अपनी एक कहानी ।

संवाद-
उपन्यास के संवाद उपन्यास की गति को तीव्रता प्रदान करये हैं और पात्रों का वास्तविक चरित्र उभारने में सहायक हैं।
व्रुम की मानसिक स्थिति का चित्रण इस कथन से होता है-" ..माॅम और डैड ...वे एक-दूसरे से इतनी नफरत क्यों करते हैं?"
व्रुम कठिन परिस्थितियों में भी हार मानने वाला नहीं पर उसके हृदय में माँ-बाप का अलग होना चुभता है।
राधिका काॅल सेंटर में काम करने के साथ-साथ माॅडलिंग की कोशिश करती है, पर वह समाज व जीवन के एक अँधेरे पक्ष को भी जानती है- "सभी को दर्द महसूस होता है, क्योंकि सभी की जिंदगी में एक अँधेरा पक्ष होता है।"
यह पंक्ति उपन्यास के सभी पात्रों पर खरी उतरती है, क्योंकि सभी के जीवन में एक अँधेरा पक्ष और सभी पात्र उसी से जूझते हैं।
पर उपन्यास का महत्वपूर्ण संवाद वाला अंश है भगवान की काॅल का आना। वह एक काॅल जो उपन्यास के सभी पात्रों को उस अँधेरे से संघर्ष करने की इच्छाशक्ति प्रदान करती है।
कथानक-  उपन्यास की मूल कथा काॅल सेंटर में काम करने वाले युवाओं की कथा, जो जिंदगी में बहुत कुछ करना चाहते हैं पर परिस्थितियों के आगे कोई निर्णय लेने में अक्षम में दूसरी तरफ काॅल सेंटर में उनका बाॅस बख्शी उनकी इस मजबूरी का फायदा उठाता है। पर अंत में भगवान की एक काॅल से परिस्थितियाँ बदल जाती है।
  इसके अतिरिक्त उपन्यास में श्याम व प्रियंका की प्रेम कहानी है जो समाप्त होने जा रही है। ईशा को माॅडलिंग की दुनिया से कटु यथार्थ का पता चलता और वह मन से हार चुकी है।
प्रेम विवाह करके जीवन में उलझी राधिका है तो परिवार से बाहर किये गये मिलिटरी अंकल है।
अगर बात परिवार की चली है तो व्रुम के दिल-दिमाग में भी अपने परिवार का बिखराव उपस्थिति है।
  वह कहता भी है -" जिंदगी को झेलने की बजाय उसे खत्म कर देना आसान है।"
विशेष
उपन्यास का विशेष अंश है भगवान का काॅल -" याद रखो...परम मालिक मैं ही हूँ । और मैं तुम्हारे साथ हूँ। तो फिर तुम किससे डरते हो।"
उपन्यास का नाकारात्मक पक्ष- इस उपन्यास में अनुवाद का काम अच्छा नहीं लगा, क्योंकि अनुवादक मात्र शब्दों का अनुवाद करने में लगा रहा जिसके कारण भाव पक्ष कमजोर हो गया।
लेखक की एक विशेष कमी यह रही की वो एक जगह अश्लील वेब साइट के एड्रेस लिख गया, जिनकी कोई जरूरत नहीं थी। यह तो सीधे-सीधे पाठक को भी कह गया आप उन साइट पर अश्लील सामग्री देख सकते हो। यह तो चेतन भगत की निकृष्ट मानसिकता का परिचय है।
  समीक्षक- हमारे अंदर एक शक्ति है, की हम अच्छा कार्य कर सकते हैं। बस इसके लिए हमें अपनी अंतरात्मा की आवाज सुननी चाहिए।
यह उपन्यास पढने योग्य है, जो की हमें सफलता प्राप्त करने का तरीका भी बताती है।
        ..........
उपन्यास- वन नाईट @द काॅल सेंटर (one night @the call center)
लेखक- चेतन भगत
प्रकाशक- प्रभात प्रकाशन www.prabhatbooks.com
पृष्ठ-240.
मूल्य-125₹

दो स्टेट्स - चेतन भगत

 एक नाकारात्मक उपन्यास की कथा

चेतन भगत के उपन्यास '2स्टेट्स' में एक प्रेमकथा है। दो IIT करने वाले विद्यार्थी एक प्रेम सूत्र में बंध जाते हैं, लेकिन इस प्रेम को शादी तक पहुंचाने में जो समस्या आती है वह इस उपन्यास की मूल कथा है।
  दिल्ली के एक पंजाबी परिवार का लङका और तमिलनाडु के एक ब्राह्मण परिवार की कन्या। दो अलग-अलग राज्य, दो अलग-अलग संस्कृतियां इन दोनों को आधार बनाया है उपन्यासकार ने।
   उपन्यास '2स्टेट्स' के अंतिम पृष्ठ पर लिखे कथन इस कथा को बयान करते हैं।
     "दुनियां भर में लव मैरिज का फंडा बहुत सिंपल होता है।
लङका लङकी को प्यार करता है, लङकी लङके को प्यार करती है। दोनों शादी कर लेते हैं।
लेकिन इंडिया में कुछ और स्टेप्स होती है-
लङका लङकी को प्यार करता है, लङकी लङके को प्यार करती है।
लङकी की फैमिली को लङके को प्यार करना होता है।
लङके की फैमिली को लङकी को प्यार करना होता है।
लङकी की फैमिली को लङके की फैमिली को प्यार करना होता है।
लङके की फैमिली को लङकी की फैमिली से प्यार करना होता है।
लङका लङकी अब भी एक दूसरे को प्यार करते हैं। दोनों शादी कर लेते हैं।
   2 स्टेट्स में आपका स्वागत है। यह क्रिश और अनन्या की कहानी है, जो भारत के दो अलग-अलग हिस्सों से हैं। दोनों एक-दूसरे को बेहद प्यार करते हैं और शादी करना चाहते है। जाहिर है, उनके पैरेंट्स को उनकी शादी से एतराज है। अपनी लव स्टोरी को लव मैरिज में बदलने के लिए दोनों को एक बहुत मुश्किल लङाई लङनी पङती है, क्योंकि लङना और बगावत करना तो आसान है, लेकिन किसी को राजी करना कठिन है।
क्या वे दोनों कामयाब हो सकेंगे।
   यह है उपन्यास '2 स्टेट्स' का।
अब बात करे उपन्यास की एक पाठक के दृष्टिकोण से-
  उपन्यास का नायक क्रिश एक ऐसे परिवार से है, जिसमें बिखराव है। परिवार में क्रिश के पापा की अपने पुत्र व पत्नी से अनबन रहती है। वहीं क्रिस की ननिहाल वाले दिखावा पसंद हैं, जो अपने बच्चों की शादी धन-दौलत के आधार पर तय करते हैं। उनकी दिखावा पसंद जिंदगी को क्रिस के पापा पसंद नहीं करते।
  वहीं बात करें क्रिश की जो उपन्यास का नायक व सूत्रधार है, जिसे कुछ भी पसंद नहीं। प्रत्येक बात में नाकारात्मक दृष्टिकोण है। उसे अपने मां-बाप पसंद नहीं, नायिका के माँ-बाप पसंद नहीं, नायिका के भाई में कमी दिखाई देती है, अपना बैंक मैनेजर पसंद नहीं, यहाँ तक टैक्सी ड्राइवर, डीजे वाला, वेटर आदि में कमी नजर आती है॥
नायिका की माँ के प्रति एक टिप्पणी देखिए-
"उसकी माँ की मैजंटा गोल्डन कांजीवरम् साङी लाॅन के किसी भी कोने से देखी जा सकती थी।  उन्हें देखकर लगता था कि वे गोल्डन पेंट के ड्रम में गिर गयी थी।"
इस प्रकार अन्य पात्रों के प्रति पाठकों को टिप्पणियां मिलेगी जो पूरे उपन्यास का स्वाद बिगाङ देंगी।
  लेखक महोदय की मानसिकता भी दृष्टिगत होती है, जो प्रत्येक व्यक्ति की वेशभूषा, खानपान व संस्कृति पर निकृष्ट टिप्पणियां कर रहें हैं।
   वहीं नायक की माँ नायिका को व उसके परिवार को पसंद नहीं करती, कारण वे दक्षिणी भारतीय है, मद्रासी हैं।
  लेकिन स्वयं नायक की माँ का व्यवहार किसी भी दृष्टि से उचित नजर नहीं आता। दोनों परिवार की प्रथम मुलाकात के वक्त लेखक ने मात्र दोनों परिवारों में इसलिए नाराजगी दिखा दी की वे अलग-अलग राज्य से हैं। जो की उचित नहीं लगता॥
  कुछ कथन उपन्यास के अच्छे लगे-
"ईश्वर ने तुम्हें जीवन का उपहार दिया है, इसे उन्हीं को समर्पित कर दो।"
"जब कपल एक-दूसरे के साथ होते हैं, तो वे कभी इस बात को नहीं समझ पाते कि एक-दूसरे के लिए उनका प्यार दूसरों को कितना भद्दा लग सकता है।"
"दुनियां का सबसे समझदार इंसान और सबसे नासमझ इंसान दोनों हमारे भीतर रहते हैं, लेकिन सबसे बङी कठिनाई यह है कि हम कभी यह नहीं बता सकते कि समझदार कौन है और नासमझ कौन।"
अगर इस उपन्यास में कुछ ठीक है तो वह है उपन्यास का समापन होना, रोचकता के साथ।
उपन्यास को पढते वक्त महसूस होता है की इसे अनावश्यक विस्तार दिया गया है।
एक नाकारात्मक टिप्पणियां से भरा हुआ यह उपन्यास पाठक का समय बर्बाद करने में सक्षम है।
उपन्यास - 2 स्टेट्स(दो राज्य)
लेखक - चेतन भगत
पृष्ठ - 316
मूल्य-195/-
अनुवाद- सुशोभित सक्तावत
प्रकाशक- रूपा पब्लिकेशन www.rupapublications.com

Thursday, 29 December 2016

10. रेवोल्यूशन 2020- चेतन भगत

            रेवोल्यूशन 2020
       लव, करप्शन, एम्बिशन
........................................
चेतन भगत के उपन्यास 'रेवोल्यूशन 2020' की कहानी वाराणसी शहर के तीन विद्यार्थीयों की कहानी।
  उपन्यास के पिछले पृष्ठ पर लिखे कथन देख लिजिए-
'एक समय की बात है। भारत के एक छोटे से कस्बे में दो इंटेलिजेंट लङके रहते थे।
एक अपनी इंटेलिजेंस का इस्तेमाल कर अमीर बनना चाहता था, दूसरा रेवोल्यूशन(क्रांति) करना चाहता है।
लेकिन प्राॅब्लम यह थी कि वे दोनों एक ही लङकी को प्यार करते थे।
   यह बचपन के तीन दोस्तों गोपाल, राघव व आरती की कहानी है, जो वाराणसी में सफलता, प्यार और खुशी तलाशने की जद्दोजहद करते हैं। बहरहाल, भष्टों को आगे बढाने वाले अन्यायपूर्ण समाज में ये सब हासिल कर पाना आसान नहीं है।
गोपाल व आरती दोनों अच्छे दोस्त हैं। जहां गोपाल आरती गोपाल को मात्र अपना दोस्त मानती है, वहीं गोपाल आरती को अपना प्यार- "वाराणसी के सभी साधुओं और पुजारियों की कल्पना कीजिए और उनकी तमाम पूजा-भक्ति को एक साथ रख दीजिए। मैं उससे उतना ही प्यार करता हूँ।"
  लेकिन इस प्यार का तिकोण है इनका सहपाठी दोस्त राघव।
जब AIEEE के एग्जाम में इंटेलिजेंट राघव उत्तीर्ण हो जाता है व स्वयं को लूजर(मुझे तो इस शब्द पर पता नहीं क्यों आपत्ति है-समीक्षक) मानने वाला गोपाल अनुत्तीर्ण।
तब अपने बीमार पिताजी के सपने को साकार करने के लिए IIT के गढ कोटा(राजस्थान) तैयारी करने आता है।
  कोटा वाला अध्याय इस उपन्यास का महत्वपूर्ण अध्याय है। यह अध्याय एक ओर जहां कोटा में परपतवार की तरह पैदा हुये कोचिंग सेंटर की सत्यता बयान करती है, कैसे रुपय लूटने का धंधा चलता है। कोचिंग के नाम पर अंधी लूट का सार्थक वर्णन है। वहीं इस अध्याय में आरती गोपाल को छोङ कर राघव से प्यार करने लग जाती है।
गोपाल इस सदमें को सहन नहीं कर पाता और टूट जाता है।
जिसका इस दुनिया में अपने पिताजी व आरती के आलावा कोई नहीं।
  उस में से आरती का बदल जाना गोपाल का जीवन ही बदल देता है। 
प्यार आप का जीवन बना सकता है तो बर्बाद भी कर सकता है। यह अध्याय पाठक की आँखों का पानी सूखने नहीं देता।
  गोपाल से आरती का अलग होना फिर गोपाल का पुनः असफल होना और इस सदमें में गोपाल के पिताजी की मृत्यु हो जाना।
अब गोपाल अकेला है, असफल, न दोस्त न प्यार। अगर कुछ है तो वो लेनदार है खङे हैं जिनसे पैसा लेकर गोपाल के पिताजी ने गोपाल की शिक्षा पर खर्च किये थे॥
  एक बार पुनः समय बदलता है आरती पुनः गोपाल के नजदीक आती है।
"तुम्हारी कोई गर्लफ्रण्ड होनी चाहिये। प्यार अद्भुत होता है......।"- आरती ने कहा।
"प्यार करना केवल तभी अदभुत होता है, जब वह शख्स भी आपको प्यार करे, जिसे आप प्यार करते हैं।"
कितना दर्द है गोपाल के इन शब्दों में।
उपन्यास में ऐसे कई कथन मिलेंगे जो पाठक के मन को छू जायेंगे व उपन्यास के पात्रों का चरित्र-चित्रण करने में सक्षम है।
विधायक शुक्ला जी का एक कथन देखिए,-"सत्ता कोई सेब नहीं होता, जो सीधे आपकी गोद में आकर गिरे। सत्ता को उन लोगों से छीनना पङता है, जो उस पर पहले से ही कुण्डली जमाकर बैठे हैं।"
क्रांति के संबंध में पात्रों के कथन भी गजब हैं।
"क्रांति का मकसद क्या होगा?"
क्रांति करने वाले राघव का एक कथन देखिए-
"एक ऐसा समाज बनाना, जिसमें सत्ता से ज्यादा सच, न्याय, और समानता का सम्मान हो। ऐसे समाज ही सबसे ज्यादा तरक्की करते हैं।"
   आरती के प्यार में उलझे दो युवक एक परिस्थितियों से सबक लेकर अमीर बनना चाहता है शायद उसे अपना प्यार मिल जाये, दूसरा परिस्थितियां बदलना चाहता है। इन दोनों के बीच है आरती।
पूरे उपन्यास में एकमात्र एक अंतरंग दृश्य को छोङकर सब रोचक, भावुक व पठनीय है।
उपन्यास की भाषा शैली सरल, सहज व प्रवाहमय है।
कुछ कथन आपको हमेशा याद रहेंगे व कथोपकथन उपन्यास के पात्रों का सजीव वर्ण करने वाले हैं।
  एक प्यार, शिक्षा व आर्थिक रूप से असफल युवक की प्रेमकथा पढने योग्य है।।
रेवोल्यूशन -क्रांति
लव- प्यार
क्रप्शन- भ्रष्टाचार
एम्बिशन- इच्छा
  ........      ............
उपन्यास - रेवोल्यूशन 2020
लेखक - चेतन भगत
प्रकाशक- रूपा पब्लिकेशन, दिल्ली
अनुवादक- सुशोभित शक्तावत।
मूल्य-225/-रुपये
पृष्ठ -338

Sunday, 25 December 2016

फाइव पाॅइंट समवन- चेतन भगत

Five point someone - CHETAN BHAGAT
                .................................  .
'फाइव पाॅइंट समवन' चेतन भगत का  उपन्यास है। चेतन भगत अंग्रेजी के लेखक हैं और उनके उपन्यास युवावर्ग में काफी लोकप्रिय हैं। क्योंकि उनके उपन्यासों की कहानियां युवावर्ग पर ही केन्द्रित  होती हैं।
प्रस्तुत उपन्यास 'five point someone' भी छात्रवर्ग की कहानी है, जिस पर राजुमार हिरानी की आमिर खान कृत फिल्म 'three idiots' बन चुकी है, हालाकि फिल्म व उपन्यास की मूल कहानी  वही है पर बाकी घटनाओं में बहुत विभिन्नता है। फिल्म में जितनी रोचकता है उपन्यास में उतनी नहीं।
   कहानी है IIT करने वाले तीन मित्रो रेहान, आलोक व हरि की। पूरी कहानी का सूत्रधार स्वयं आलोक है।
इंडियन इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नालॉजी के तीन फाईव पाॅइंटर विद्यार्थी जो इंस्टीट्यूट के कठोर वातावरण से किस प्रकार जूझते हैं व साबित करते है की रट्टा मारकर अच्छे अंक लाना वास्तविक सफलता नहीं है॥
  काॅलेज में पहुंचे तीनों मित्र IIT काॅलेज को एक मौज-मस्ती का काॅलेज मानकर आते है लेकिन IIT इंस्टीटयूट के कठोर वातावरण में स्वयं को स्थापित नहीं कर पाते।
  काॅलेज जीवन ही विद्यार्थी के मौज-मस्ती का समय होता है और उस पर IIT जैसा सख्त इंस्टीट्यूट आपके जीवन को निर्दयता से कुचल देता है।
जहां एक ओर आलोक के बीमार पिता, विवाह योग्य बहन की जिम्मेदारी आलोक की माँ संभालती है की शायद उसका पुत्र नौकरी लग जाये तो उनका जीवन निर्वाह आसान हो जाये, वहीं रेहान एक अमीर माँ-बाप की संतान है जिसे खर्च करने के लिए रुपये तो मिलते हैं पर माँ-बाप का समय नहीं मिल पाता और जिनके बीच है कहानी का सूत्रधार आलोक।
  जहां आलोक अच्छे अंक प्राप्त कर जैसे-तैसे नौकरी प्राप्त करना चाहता है वहीं रेहान काॅलेज के निष्ठुर व्यवस्था को बदलना चाहते है बीच में अटका हरि कुछ नहीं कर पाता।
यह बात भी सही है की हमारे इंस्टीट्यूट बच्चों को मात्र नौकरी पाने तक की शिक्षा देते है न की जीवन जीने की।
बस इसी विषय से आलोक अपने मित्रों का साथ छोङ देता है।
एक तरफ आलोक इंस्टीट्यूट के कठोर नियंत्रण इसलिए स्वीकार करता है कि उसे बस नौकरी चाहिए, दूसरी तरफ रेयान इंस्टीट्यूट के नियमों का इसलिए उल्लंघन करता है की ये कठोर नियम छात्र के जीवन के महत्वपूर्ण वर्षों से आनन्द छीन लेते हैं।
  क्या है five point someone -
  इंस्टीट्यूट में अधिकतम स्कोर वाले विद्यार्थी को अच्छा समझा जाता है, चाहे वह रट्टा मारकर ही क्यों न ज्यादा अंक लाये। उपन्यास के तीनों पात्र आलोक, रेहान व हरी दस में से पाँच अंक ही प्राप्त कर पाते हैं और फाईव पाॅइंटर को अच्छी नजर से नहीं देखा जाता।
आॅपरेशन पेंडुलम - उपन्यास का पन्द्रहवा व महत्वपूर्ण पूर्ण अध्याय है, जिसे उपन्यास का मध्य भाग भी कहा जा सकता है। इस अध्याय के बाद उपन्यास में गति आती है॥
हरि व नेहा- विभागाध्यक्ष की पुत्री नेहा व हरि की प्रेमकथा भी उपन्यास का सबसे रोचक अंश है। नेहा के घर पर हरि चाबी चुराना और नेहा की कार चलाते हुए विभागाध्यक्ष द्वारा हरि को पकङना।
विभागाध्यक्ष का कथन देखिए जो इस पूरे प्रकरण को स्पष्ट कर देगा- "तुम मेरी मौखिक परीक्षा में पीकर आये थे और अब मैं तुम्हें अपनी बेटी के साथ मसखरी करते पाता हूँ, वह भी मेरी गाङी में मेरी शर्ट पहनकर।"
  हरि व नेहा प्रकरण काफी रोचक है।
डिस्को व आलोक का आत्महत्या का प्रयास- इंस्टीट्यूट द्वारा गलत आचरण के कारण तीनों को एक समेस्टर के लिए निलंबित किया जाता है और इससे व्यथित होकर इंस्टीट्यूट की छत से आलोक छलांग लगा देता है।
इंस्टीट्यूट में सजा को डिस्को कहा जाता है।
फाईव पाॅइंटर की जीत- उपन्यास के अंत में तीनों विद्यार्थी यह साबित करने सफल होते है की रट्टा मारकर अच्छे अंक लाना महत्वपूर्ण पूर्ण नहीं। वे अपना एक प्रोजेक्ट बना कर इस बात को साबित करते हैं।
चेतन भगत का उपन्यास 'फाईव पाॅइंट समवन' काफी रोचक उपन्यास है, जिसमें आपको संवेदना, हास्य, रुदन, सफलता-असफलता, प्रेम व शिक्षा के कठोर नियंत्रण की कहानी मिलेगी॥
  उपन्यास के कुछ संवाद आपको देर तक याद रहेंगे जो उपन्यास की कहानी को आगे बढाने में भी योगदान देते हैं।
"और तब मैने यह अहसास किया कि जी.पी.ए. से एक अच्छे छात्र बनते हैं, लेकिन एक अच्छे इंसान नहीं।"
"जीवन बहुत छोटा होता है, इसलिए उसका आनंद लो कैंपस की जिंदगी का सबसे बेहतरीन हिस्सा होते हैं वे दोस्त, जो तुम बनाते हो"
पूरी कहानी को भिन्न-भिन्न शीर्षक से 27 अध्याय में बाँटा गया है जो की काफी लंबा प्रतीत होता है।
शीर्षक 'मेरे जीवन का सबसे लंबा दिन'(अध्याय 16-21तक) को छः खण्ड में बाँटा गया है, हालाकि यह एक दिन की नहीं दो दिन की कहानी है व काफी रोचक भी है।
हालाकि अध्याय 14 तक तो यही लगता है की उपन्यास को ज्यादा विस्तार दिया गया है, लेकिन बाद के अध्याय काफी रोचक है व उपन्यास की तीव्रता भी बनाये रखते हैं।
  मेरे द्वारा पढा गया 'five point someone' का यह हिंदी अनुवाद है, लेकिन अनुवादक इसके साथ उचित न्याय नहीं कर पाया। उपन्यास अच्छा है, कहानी अच्छी है, पर हिंदी अनुवादक मात्र अंग्रेजी शब्दों का अनुवाद करता रहा जिसके कारण उपन्यास की संवाद शैली पाठक को प्रभावित नहीं कर पाती॥
....................
उपन्यास - फाईव पाॅइंंट समवन (five point someone)
लेखक - चेतन भगत
प्रकाशक- प्रभात प्रकाशन
संस्करण - 2015
मूल्य - 150/-
भाषा- हिंदी(उपन्यास की मूल भाषा अंग्रेजी है)
लेखक संपर्क - www.chetanbhagat.com
            info@chetanbhagat.com

Thursday, 22 December 2016

तीन गायब- ओमप्रकाश शर्मा

जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा का जासूसी उपन्यास है 'तीन गायब'।
  'यूँ मामला महत्वपूर्ण भी था, और महत्वहीन भी था। एक तस्वीर .....मानो ऐसी तस्वीर जिसके दो रुख हों, एक और देखने से मानों तस्वीर में खरगोश दिखाई पङता हो और दूसरी और देखने पर शैतान और घृणित लकङबग्घा।'
ये है 'तीन गायब' उपन्यास का एक दृश्य।
छोटा सा शहर है गणेश नगर, जिसमें से एक ही परिवार के एक-एक कर के तीन सदस्य गायब हो जाते हैं।
और इल्जाम आता है भूतपूर्व वनमंत्री अजयश्री  पर। इल्जाम लगाने वाला है एक वर्तमान वनमंत्री सूरज सिंह।
विधानसभा अध्यक्ष के आगे वर्तमान मंत्री सूरज सिंह ने अपने क्षेत्र के एक नीलकण्ठ व्यक्ति का प्रार्थना पत्र रखा, जिसमें वर्णन था की उसकी बहन का अपहरण हो गया।
विधानसभा अध्यक्ष ने उक्त व्यक्ति नीलकण्ठ को स्वयं उपस्थित होने के लिए कहा।
वर्तमान मंत्री ने अागामी दिवस उक्त व्यक्ति को उपस्थित करने का वादा किया।
अागामी दिन।
वह व्यक्ति तो नहीं आया पर वनमंत्री सूरज सिंह पुनः एक पत्र के साथ प्रस्तुत हुये।
नये पत्र में वर्णन था वासुदेव नामक व्यक्ति का, पत्र में आरोप था कि पहले उसकी पत्नी, फिर उसके साले का अपहरण हो गया।
विधानसभा अध्यक्ष ने पुनः रस्म अदा करते हुये कहा की वासुदेव नामक व्यक्ति को कल यहां उपस्थित किया जाये।
पर अगले दिन वनमंत्री सूरज सिंह उसे भी विधानसभा अध्यक्ष के आगे उपस्थित नहीं कर पाये क्योंकि उसका भी अपहरण हो गया।
एक छोटा सा शहर गणेश नगर, एक-एक कर के तीन व्यक्ति गायब, पर पुलिस और प्रशासन कुछ नहीं कर पाया।
और तब तीन माह बाद आगमन होता है केन्द्रीय खूफिया विभाग के दो युवा जासूस बंदूक सिंह और जगन का।
तीन माह पुराने 'तीन गायब' केस को हल करने का उनका अपना अलग तरीका है।
तीन व्यक्तियों को गायब करने का आरोप है भूतपूर्व वनमंत्री अजयश्री पर और आरोप लगाने वाले हैं वर्तमान वनमंत्री सूरज सिंह।
क्या वास्तव में कोई तीन गायब हुये थे?
या यह एक राजनैतिक षङयंत्र था?
कौन था वास्तविक अपराधी?
सूरज सिंह या अजयश्री?
क्या वो तीन गायब वापस लौट पाये?
जिंदा या मुर्दा?
बंदूक सिंह और जगन क्या इस केस को हल कर पाये?
तीन गायब.......तीन माह बाद.......दो जासूस.......
इस रहस्य को कैसे हल करते हैं यह तो इस रोचक उपन्यास को पढ कर ही जाना जा सकता है।
पूरे उपन्यास में दोनों जासूस न तो कोई गोली चलाते हैं और न ही कोई मारपीट करते हैं, वह तो मात्र अपने अनुभव और दिमाग से जा पहुंचते है असली अपराधी तक।
उपन्यास में रोचकता है की दोनों जासूस एक-एक कङी को हल करते हुये असली अपराधी तक पहुंचे है।
तोप सिंह से कालिदास, कालिदास से रसीली, रसीली से कुंदन, कुंदन से सरोज, सरोज से मलखान सिंह और मलखान सिंह से असली अपराधी........तक।
एक लंबा जाल बिछा था तीन गायब से लेकर असली अपराधी के बीच लेकिन केन्द्रीय खूफिया विभाग के बंदूक सिंह और जगन भी आखिर अपराधी तक पहुंच ही गये।
आखिर क्यों तीन गायब हुये?
आखिर किसने तीन व्यक्ति गायब किये?
एक जासूसी उपन्यास के साथ-साथ दोनों जासूस मित्रों के कथन और कार्यशैली भी बहुत रोचक है जो पाठक को बाँधे रखती है।
ओमप्रकाश शर्मा की भाषा शैली की बात करें तो यह काफी सरल व रोचक है।
कथोपकथन भी संक्षिप्त व रोचक हैं।
रोचकता आप स्वयं पढ लीजिए -
"उसका नाम मिट्ठूराम हो या तोताराम अलबता उसे गंगाराम बोलना ही पङेगा।"
"दौलत का नशा शराब के नशे को काटता है।"
"राजनीतिज्ञ चाहे गली में बसता हो चाहे चौराहे पर, उसकी जङ नई दिल्ली में होती है।"
कहीं -कहीं संवाद सूक्ति बन गये हैं, जो उपन्यास की रोचकता को बढाते हैं
उपन्यास का समापन पाठक के समक्ष एक प्रश्न छोङ जाता है।
जगन के शब्दों में-
"गुरु कोई मजबूर अपराध करता है बात समझ में आती है, आवेश में झगङे, फौजदारी और हत्या हो जाती है, यह बात भी समझी जा सकती है, परंतु संपन्न व्यक्ति क्यों अपराध करते हैं.....।"
उपन्यास - तीन गायब
लेखक - ओमप्रकाश शर्मा
पृष्ठ - 192.
प्रकाशक- जनप्रिय लेखक कार्यालय।
इस उपन्यास का Sample Chapter पढने के लिए यहां क्लिक करें।

Thursday, 15 December 2016

हिंदुस्तान हमारा- मिस्टर

             हिंदुस्तान हमारा - मिस्टर
........................
मिस्टर का यह दूसरा उपन्यास पढने को मिला। उपन्यास काफी रोचक है, जो पाठक को कुछ हद तक बाँधे रखने में सफल रहा है, पर कई बार ऐसा अहसास होता है की कहानी एक जगह पर ठहर गयी हो।
इस उपन्यास का नायक स्वयं 'मिस्टर' है, जो एक बिजनेस मैन के साथ-साथ भारतीय सिक्रेट सर्विस के लिए काम करता है।
इस उपन्यास का आरम्भ एक तपन बोस नामक ऐसे युवक से होता है जो पुलिस हिरासत में है और उस पर दो व्यक्तियों की हत्या का आरोप है जिसमें एक इंस्पेक्टर भी है। युवक का दावा है की जब वह मुख्य आरोपी का नाम बतायेगा तो पूरा देश हिल जायेगा, पर उसका नाम वह अदालत में बतायेगा।
स्वयं युवक तपन बोस का कथन पढ लीजिएगा-
"हां ये सच है.....।" जिस्म पर नेवी ब्लु जींस तथा गहरे रंग की.........."मजूमदार और इंस्पेक्टर भैरों तनेजा की हत्या मैंने की है।"
मिस्टर यह सब अपने घर पर टी.वी. पर देखता है। दूसरी तरफ मिस्टर को सिक्रेट सर्विस के चीफ की तरफ से आदेश मिलता है की वह तपन बोस नामक युवक की बातों में सच्चाई का बता लगाते।
इसी दौरान लगभग बारह वर्ष की एक बच्ची 'मीनू' द्वारा मिस्टर का अपहरण कर लिया जाता है जो की स्वयं को तपन बोस की छोटी बहन बताती है और अपने भाई को निर्दोष साबित करने की मुहिम पर लगी है।
यहाँ से उपन्यास अपनी रफ्तार को पकङता है और निरंतर नयी-नयी घटनाएं घटती हैं।
मिस्टर का अपहरण मीनू द्वारा फिर मीनू का गायब होना।
भारत से कहानी पुर्तगाल के लुसियाना सिटी पहुंचती है और वहां तो उपन्यास का नायक फुटबाॅल बनकर रह जाता है। कभी मार्टिन चुंग, कभी आयशा, कभी ग्रेटा, कभी जाॅनी आदि मिस्टर का अपहरण कर ले जाते हैं।
स्वयं मिस्टर जो स्वयं को एक शक्तिशाली व्यक्ति दर्शाता है लेकिन अनजान धरती पर अनजान दुश्मनों के बीच एक फुटबाॅल बनकर रह जाता है।
उपन्यास में भरपूर एक्शन है, क्योंकि जब भी मिस्टर का अपहरण होता है तो एक्शन तो अवश्य होगा।
आप स्वयं देख लीजिए -
"अपनी मजबूत कलाई पर गन के दस्ते को रोकते हुए, दायें हाथ से गन को कुछ इस तरह झटका दिया की वार करने वाला गनर हवा में उठता हुआ, मेरे सिर पर से गुजरता ठीक उस मार्टिन से टकराया जिसका जिस्म हवा में था"
"मेरी वे दोनों लातें कुछ इतनी घातक थी...........कम से कम आठ फुट तक ऊपर उछल कर ठीक आयशा पर जा पङा जो अभी सोफे पर पङी कराह रही थी।"
शारीरिक रूप से शक्तिशाली मिस्टर हर बार दुश्मनों से हार जाता है।
उपन्यास की सबसे बङी विशेषता है कहानी में नये-नये घटनाक्रम स्वयं मिस्टर भी नहीं समझ पाता की कौन दोस्त है कौन दुश्मन। यह सिलसिला उपन्यास के अंत तक चलता है और खलनायक पात्र भी परस्पर दोस्त-दुश्मन की पहचान नहीं कर पाते।
भारतभूमि से लुसियाना सिटी तक फैला यह कथानक काफी रोचक है और उपन्यास का नायक मिस्टर अंत में अपने कार्य में सफलता प्राप्त करता है।
अब आप सोच रहे होंगे की तपन बोस का क्या हुआ, यह मैं भी सोचता रह गया पर उपन्यास के अंत में तपन बोस का जिक्र तक नहीं मिला।
फिर मिस्टर का अपहरण करने वाली नन्हीं मीनू कौन थी?
कैसे मिस्टर का अपहरण किया?
कौन था जाॅनी?
कौन था मार्टिन चुंग?
कौन थी ग्रेटा, कौन थी आयशा?
कौन थे दुश्मन कौन थे दोस्त?
इन सब प्रश्नों के उत्तर आपको 'हिंदुस्तान हमारा' उपन्यास में ही मिलेंगे।
............
उपन्यास - हिंदुस्तान हमारा
लेखक - मिस्टर
प्रकाशक- तुलसी पब्लिकेशन, मेरठ।
पृष्ठ -272.
मूल्य- 25/-रुपये

Wednesday, 14 December 2016

06. एक कहानी जो मन को छू गयी

   मानवीय संवेदना की कहानी 'चिङिया'
......................................
कुछ कहानियां होती हि ऐसी हैं जो अापके ह्रदय में उतर जाती है, जो भुलाये नहीं भूलती॥
ऐसी हि एक कहानी है "चिङिया" जो अाधुनिक महानगर के संवेदनाहीन संबंधों पर तीव्र प्रहार करती है।
कहानी का मुख्य पात्र स्वयं लेखक है जो एक गाँव के जीवंत परिवेश और संबंधों से जुङा हुआ है।
एक बार लेखक को एक महानगर में नौकरी मिल जाती है, और वह उस संवेदना हीन शहर का तीसरी मंजिल का सदस्य बन जाता है।
यहां लेखक ने बहुत हि खूबसूरती के साथ के शहर के लोगों कि तथाकथित सभ्यता का वर्णन किया है।
बीच वाली मंजिल के शर्मा जी के घर समारोह है और लेखक इंतजार करता है उसे कि भी पङोसी होने के नाते बुलाया जायेगा, पर इंतजार हि रह जाता है।
वहीं एक बार सताईस नंबर के फ्लैट वाले बुजुर्ग दिवाकर जी 'अंकल' शब्द पर नाराज हो जाते हैं।
हद तो तब हो नाती है जब यहाँ के लोग 'राम-राम' शब्द को पुराना बता कर नकार देते हैं।
तब लेखक लिखता है जब सङक पर खङा कुत्ता मुझे देखकर पूंछ हिला देता है तो मुझे आत्मीयता का अहसास होता है।
ऐसे शहर में रहना लेखक के लिए मुश्किल हो जाता है॥
लेखक के इस एकान्त को दूर करती है लेखक के कमरे में आने वाली चिङिया, जिससे लेखक भावनात्मक रिश्ता कायम हो जाता है और चिङिया कमरे में हि घोंसला बना लेती है।
लेकिन एक दिन लेखक का स्थानान्तरण अन्यत्र हो जाता है।
लेखक जब अपना सामान बांध रहा होता है, तब चिङिया उदास निगाहों से लेखक को देखती रहती है। चाहे चिङिया नासमझ है पर वो महसूस करती है कि लेखक शायद मुझसे दूर जा रहा है। स्वयं लेखक भी इस भावना को महसूस करता है, पर मजबूर है।
लेखक अपना सामान बांध कर नीचे रिक्शे में रख अाता है, और बाकी सामान लेने  के लिए पुनः कमरे अाता है तो स्तब्ध रह जाता है।
कमरे में चिङिया का घोंसला बिखरा पङा है और चिङिया उड गयी॥
.......
अाधुनिक समय के संवेदनहीन होगे संबंधों पर लिखी गयी एक मार्मिक कहानी है।
यह लेखक कि प्रथम कहानी है।
लेखन-ज्ञानप्रकाश विवेक
प्रथम प्रकाशन- दैनिक ट्रिब्यून, चंडीगढ।

कविता संग्रह pdf

      क्रांति शब्द
...................
   अच्छी कविताओं का संग्रह ।
PDF BOOK के लिए यहां क्लिक करें।

एक अनोखी बूढी डायरी

          एक अनोखी बूढी डायरी
.................................................... ।
  इन दिनों जो किताब पढी वह है, अशोक जमनानी जी कि 'बूढी डायरी'।

यह पूर्णत: काल्पनिक डायरी है।  जिसमें डायरी लेखक अपनी स्वर्गीय पत्नी को संबोधित कर लेखन करता है। लेकिन यह कोई पारिवारिक कथा लेखन नहीं है, यह तो प्राचीनकालिन उस भारत का वर्णन है, जिसके कारण भारत कि समृद्ध संस्कृति का पता चलता है।
यह डायरी राष्ट्रकूट और कलचुरि शासन कि समृद्ध मूर्ति कला का जीवंत वर्णन करती है। वर्तमान के माध्यम से अतीत का गौरवशाली चित्रण है।
डायरी में पाठक को प्राचीन मूर्ति कला का चित्रण मिलेगा साथ में तात्कालिक सभ्यता का वर्णन भी लघुकथाओं के माध्यम से प्राप्त होगा।
डायरी में इन के अलावा जो तीसरा और विशेष वर्णन है, वह है एक विधुर व्यक्ति से एक पुत्र का अलगाव जो आपकी आंखों में आंसु ले आयेगा॥
वर्तमान के माध्यम से अतीत का वर्णन और फिर वर्तमान का चित्रण करती यह काल्पनिक डायरी पढने योग्य है।
160 पृष्ठ कि यह डायरी आपको जरा सा भी नीरस नहीं करेगी।
अगर बात करें लेखन शैली कि तो यहीं खूबी इस डायरी को पढने के योग्य बनाती है। लेखन का अंदाज जो पाठक को बांधे रखने में सक्षम है।
..........
रचना- बूढी डायरी
लेखक- अशोक जमनानी
पृष्ठ -160.
मूल्य-250रुपये।
email- aashok_jamnani@hotmail.com
www.ashokjamnani.com

इंकलाब- उपन्यास

        इंकलाब - भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का
.................................  .....................
ख्वाजा अहमद अब्बास एक अच्छे फिल्मकार हैं और उतने हि अच्छे एक लेखक भी हैं।  इनकी कहानियां अक्सर पढने को मिल जाती हैं, लेकिन इनका उपन्यास पहली बार पढा॥
   भारतीय स्वतंत्रता संग्राम पर लिखा गया एक दिलचस्प उपन्यास है। एक युवा को केन्द्र में रख कर लिखा गया यह उपन्यास उस समय को पाठक के सामने एक रोचक ढंग से प्रस्तुत करता है।
  एक मुस्लिम युवक जो गांधी जी को अपना अादर्श मानता है, लेकिन वह जिस माहौल, शिक्षण संस्थान में रहता है, वहाँ गांधी जी और आंदोलनकारियों को अच्छी नजर से नहीं  देखा जाता।
  एक युवक जो जलियांवाला बाग हत्याकांड,  असहयोग आंदोलन, दांडी यात्रा और सविनय अवज्ञा आंदोलन का प्रत्यक्षी है, जो गोलमेज सम्मेलन और गांधी-इरविंग समझौते का स्टीक चित्रण करता है, पर एक इतिहासकार की नजर से नहीं, अपितु एक शिक्षित,आंदोलनकारी, पत्रकार युवा के दृष्टिकोण से। यही तथ्य इस उपन्यास को पढने में रोचक बनाता है।
हालांकि इस उपन्यास का कोई समापन नहीं है, और ये सन 1947 से पूर्व खत्म हो जाता है,पर पढनें में रोचक है॥उपन्यास - इंकलाब
लेखक- ख्वाजा अहमद अब्बास।
विषय - भारतीय स्वतंत्रता संग्राम ॥
................................................
इस उपन्यास कि pdf प्रति निशुल्क उपलब्ध है।
PDF Book के लिए यहां क्लिक करें

खुशवंत सिंह की प्रतिनिधि कहानियां

खुशवंत सिंह की प्रतिनिधि कहानियां।
............... 
राजकमल प्रकाशन द्वारा प्रकाशित खुशवंत सिंह की इक्कीस चुनी हुयी कहानियां पढने को मिली। खुशवंत सिंह की कहानियां साहित्यिक तो नहीं कही जा सकती लेकिन अपने कहने के ढंग से काफी रोचक जरूर हैं। इनमें साहित्यिकता की बौद्धिकता  न होकर हृदय की कोमलता है।
इस संग्रह की प्रथम कहानी 'कर्म' एक ऐसे व्यक्ति की कहानी है जो स्वयं को अंग्रेजों के समकक्ष बनाये रखने का प्रयास करता है लेकिन एक दिन वही अंग्रेज लोग उसका आवरण उतार देते हैं, यह एक हास्य व रोचक कहानी है, इसी श्रेणी की अन्य कहानी है 'जल हिंदिया की प्रथम यात्रा'।
  'विष्णु का प्रतीक' व ' नास्तिक' दोनों कहानी धर्म व ईश्वर के अस्तित्व को रेखांकित करती है, दोनों ही सार्थक कहानियां है। वहीं 'मांडला की मेम साहब' पारलौकिक विषय पर लिखी गयी कहानी है।
इस संग्रह की अधिकतर कहानियों में कोई न कोई प्रेम प्रसंग अवश्य मिलता है, वहीं एक कहानी भी 'लंदन में एक प्रेम प्रसंग' शीर्षक से है।
कहानी 'साहब की बीवी' एक ऐसे दंपति की कहानी है जिसमें एक पति अपनी पत्नी से कोई संपर्क नहीं रख पाता और एक दिन पत्नी अपने पति का इंतजार करते हुये सदा-सदा के लिए सो जाती है।
अधिकतर कहानियां रोचक है, वहीं 'मिस्टर कंजूस और उनका चमत्कार' एक हास्य कथा है,और ऐसा हास्य 'जल हिंदिया की प्रथम यात्रा' के अंत में भी पाया जाता है।
इस संग्रह की कहानियां 'रेप', 'दंगा' व 'कुसुम' निकृष्ट रचनाएँ लगी।
'मरणोपरांत' स्वयं को आधार बना कर लिखी कहानी है, जिसमें स्वयं के मरण पश्चात् की मार्मिक कथा है।
कहानी 'ब्रह्म वाक्य' हमारे समाज की वास्तविक बयान करती एक अच्छी कहानी है। वहीं 'वह क्यों रुका रहा' कहानी भीष्म साहनी की कहानी 'वाग्चू' की याद ताजा कर देती है।
इस संग्रह में जो कहानी मुझे अच्छी लगी वो है 'कर्म', ब्रह्म वाक्य, जल हिंदिया की प्रथम यात्रा, दंगा।
मैंने एक बार पढा था कि खुशवंत सिंह उच्चवर्ग के लोगों के लेखक है, जिनके लेखन में साहित्य के नाम पर रोचकता व हल्की अश्लीलता पायी जाती है, यह धारणा इस संग्रह से पुष्ट होती है।
हालाकि इस संग्रह में अश्लीलता न के  बराबर है पर रोचकता जरूर है।

खुशवंत सिंह 15.08.1915 -- 20.03.2014
प्रकाशक- नीलकमल प्रकाशन