Labels

Friday, 17 November 2017

82. मेरी जीवन यात्रा- अब्दुल कलाम

कलाम की कहानी, उन्ही की जुबानी।

मेरी जीवन यात्रा, आत्मकथा, पठनीय।
--------------

  एक साधारण परिवार के सामान्य से बच्चे से वैज्ञानिक और वैज्ञानिक से राष्ट्रपति बनने  का सफर वास्तव में पढने योग्य है। कलाम की आत्मकथा उनके कई अच्छे-बुरे संघर्षों का चित्रण करती है जो कि पाठक को आगे बढने की प्रेरणा भी देती है।

कलाम लिखते हैं- " मेरे जीवन की यात्रा के कुछ महत्वपूर्ण अनुभव है, जिन्हें मैंने अपने बचपन से अब तक सँजोया है और अपने जीवन के 80 से अधिक वर्षों में प्राप्त किया है।"
                 इस पुस्तक में क्या है, -" मेरी अन्य पुस्तकों की तरह ' मेरी जीवन यात्रा' में मुख्य केन्द्र कुछ छोटी तथा अनजान सी घटनाएं थी, जो मेरे जीवन में घटित हुयी। अपने माता- पिता से जुङी अनेक घटनाओं की व्याख्या मैंने इस पुस्तक में की है।"
         संपूर्ण किताब को छोटे- छोटे 12 खण्डों में विभक्त किया है, यह किताब की रोचकता भी है। इस आत्मकथा में अधिकतर घटनाएं कलाम जी के बचपन और उनके परिवार का चित्रण करती नजर आती है। 
   कलाम जी के जीवन में अनेक अवरोधक पैदा हुए लेकिन कलाम जी ने कभी हार नहीं स्वीकार की।

जहाँ आजकल शिक्षित वर्ग ईश्वर के अस्तित्व का पूर्णत नकार देते हैं वहीं कलाम उस अदृश्य सत्ता से प्रभावित होकर लिखते हैं, - " हम सबके जीवन में दिव्य शक्ति विद्यमान है, जो हमें नकारात्मक क्षणों में तथा दुःख के पलों से उबरने की शक्ति देती है।" (पृष्ठ-21)
   आठ बरस का कमाऊ लङका नामक खण्ड में कलाम साहब के बचपन के संघर्ष का वर्णन है। मात्र आठ वर्ष की उम्र में कलाम साहब सुबह उठकर घर-घर
अखबार पहुंचाते थे और ट्युशन और विद्यालय भी जाते थे।
छोटी सी उम्र में कठिन मेहनत और उस पर भी कभी उनके चेहरे पर कभी निराशा नहीं झलकी।
     अपने शहर के प्रेम- साम्प्रदायिक सौहार्दपूर्ण वातावरण का चित्रण संकट मोचक तीन व्यक्ति नामक खण्ड में करते हैं।
         शहर के तीन नामी व्यक्ति और वह भी तीनों अलग- अलग धर्म से संबंधित थे पर शहर के अमन-चैन उन तीनों के लिए प्राथमिक था। और सच्चा धर्म भी वही है जो मनुष्य को सच्ची शांति प्रदान करे। इस वातावरण का कलाम के जीवन पर गहरा असर रहा
" अगर मेरे धर्म की बात की जाये तो निश्चित रूप से मेरे भाग्य ने मुझे विज्ञान और तकनीक क्षेत्र में पहुंचाया था, उसकी बुनियाद रामेश्वरम् से बनी थी। मैं हमेशा से ही विज्ञान में विश्वास करने वाला था, लेकिन इसके साथ ही मेरा आध्यात्मिक विश्वास था, जो कि युवावस्था में हि स्थापित हो चुका था।........मुझे ज्ञान की प्राप्ति कुरान, गीता तथा बाइबिल से मिली। इनके मिलाप से ही मेरे जीवन व संस्कारों का मिलाप मुझे अपनी जन्मभूमि से मिला था  और इस शहर के अनूठे संस्कारों ने मेरा पूर्ण विकास किया। (पृष्ठ 53)
     यह पुस्तक जो की कलाम जी के परिवार का मुख्यतः परिचय देती है। इसमें इनके परिवार को जानने- समझने का काफी अच्छा अवसर मिलता है। इसी पुस्तक का एक खण्ड है मेरी माँ और मेरी बहन
  इस खण्ड का आरम्भ इन पक्तियों से होता है
" सागर की लहरें, सुनहरी रेत, यात्रियों की आस्था,
   रामेश्वरम् की मस्जिद वाली गली, सब आपस में मिलकर एक हो जाती हैं,
वह है मेरी माँ।"
  द्वितीय विश्व युद्ध के उन कठिन दिनों का वर्णन भी मिलता है जब पूरे परिवार को राशन तय कोटे के अनुसार ही मिलता था लेकिन कलाम जी की ममतामयी माँ स्वयं भूखी रहकर अपने बच्चों को भरपेट खाना खिलाती थी।
और वहीं बहन जौहरा का वर्णन भी है जिसने कलाम जी की शिक्षा के लिए अपने आभूषण तक बेच दिये।
       कलाम जी का पुस्तक प्रेम तो सर्वविदित है, उन्होने जितना अच्छा पढा है उतना अच्छा लिखा भी है। 
" ...पुस्तकों से मेरा घनिष्ठ संबंध रहा है। वे मेरे अच्छे मित्रों की तरह है।"(पृष्ठ -87)
इस खण्ड में कलाम जी ने अपनी प्रिय पुस्तकों का भी जिक्र किया है।

प्रेरणादायक कथन-
- हमारे अंदर का दृढ विश्वास तथा हमारे अंदर के विचार है, जो हमारे कार्यों को प्रभावित करते हैं।
- मेरा मानना है की एक ही सत्ता (ईश्वर) है जो हर किसी सुनती है।(पृष्ठ 70)
- जो शिक्षक अपने विद्यार्थी की प्रगति का ध्यान रखता है, वही हमारा सर्वश्रेष्ठ मित्र होता है। (पृष्ठ-82)
- निराशा के भाव समाप्त होने के बाद इंसान की सोच में बदलाव आता है और उसके दृष्टिकोण में भी बदलाव आता है। (पृष्ठ 99)
- हम सिर्फ राजनीतिक घटनाओं को ही देश-निर्माण समझते हैं, परंतु बलिदान, परिश्रम तथा निर्भयता ही सही अर्थों में देश बनाती है। (पृष्ठ-106)
- विज्ञान एक आनंद और जुनून है।
         डाॅ. अब्दुल कलाम जी ने स्वयं के बारे में बहुत सुंदर शब्दों में बहुत ही अच्छी बात कही है, - कठिन परिश्रम, अध्ययन करना सीखना, सद्भाव तथा क्षमा कर देना- ये सब मेरी जिंदगी में मील के पत्थर हैं।
     पुस्तक में कई जगह करुण प्रसंग भी हैं जो कलाम जी को ताउम्र याद रहे और किसी भी पाठक को प्रभावित करने में सक्षम हैं।

अगर किसी भी पाठक को कलाम जी के जीवन को समझना है तो यह पुस्तक उनके परिवार और बचपन का अच्छा चित्रण करती है।
इस पुस्तक का अधिकांश चित्रण इनके परिवार से ही संबंधित है और कुछ अंश इनके वैज्ञानिक जीवन से  भी हैं लेकिन‌ पुस्तक में कलाम जी के राष्ट्रपति कार्यकाल का नाम मात्र वर्णन ही मिलता है।
पुस्तक भी भाषा शैली बहुत ही सरल और सरस है जो किसी भी पाठक को सहज ही समझ में आ जाती है। कहीं भी भारी भरकम या तकनीकी शब्दावली का प्रयोग नहीं किया गया।
हालांकि यह पुस्तक मूलतः अंग्रेजी में थी और यह इसका हिंदी अनुवाद है।
----------------------------------
पुस्तक-  मेरी जीवन यात्रा
ISBN -978-93-5048-797-6
लेखक - ए.पी. जे. अब्दुल कलाम आजाद
( 15.10.1931- 27.07.2015)
मूल पुस्तक- My journey
अनुवादक- महेन्द्र यादव
प्रकाशन- प्रभात पेपरबैक्स
www.prabhatbooks.com
संस्करण- 2017
पृष्ठ- 143
मूल्य- 150₹

जनकवि रमाशंकर यादव विद्रोही

Wednesday, 15 November 2017

79. ब्राउन शुगर- रवि माथुर

भारत से अफ्रीका के कबीले तक फैली हरी मौत का रहस्य
ब्राउन शुगर, रोचक उपन्यास, मध्यम स्तर।
------------------------------------------------------------
होटल इंटरनेशनल काॅन्टीनेन्टल
31 दिसंबर की रात
नववर्ष के शुभारंभ की पार्टी चल रही थी और जिसमें एक नीग्रो युवती मिस टोटो नृत्य कर रही थी। इस दौरान किसी ने मिस टोटो की स्टेज पर हत्या कर दी।
इसी वक्त वहाँ उपस्थित कैप्टन हमीद ने इस मामले में हस्तक्षेप किया।
   कैप्टन हमीन और कर्नल विनोद इस केस की जांच पर आगे बढे तो पता चला की कुछ दिन पूर्व एक नीग्रो युवक की लाश शहर में मिली थी और उसका शरीर हरा था।
   मिश्र घूमने गये मिस्टर कोरक और नानसी के सामने वहाँ एक हत्या हो गयी और मृतक का शरीर हरा हो गया।
"कौन थे वे लोग? तुम्हें किसने मारा?"
"हरी मौत।"
     भारत की धरती पर ब्रिटेन, मिश्र के लोगों में उपजी एक अनोखी जंग जिसमें भारत के जासूस कर्नल विनोद और हमीद को भी शामिल होना पङा और जिसका अंत अफ्रीका के कांगो बेसिन के एक टापू पर हुआ।
  विभिन्न देशों में घूमती हुयी एक खतरनाक कहानी।
उपन्यास के पात्र-
कर्नल विनोद- भारत का प्रसिद्ध जासूस।
कैप्टन हमीद- भारतीय जासूस।
कोरक- भारतीय जासूस। जो इस प्रकरण के दौरान मिश्र में था।
नानसी- कोरक की साथी।
कासिम- उपन्यास का एक हास्य पात्र‌।
डेविस- एक खतरनाक अपराधी।
रोजर- माटू देवता की आँख चुराने वाला व्यक्ति।
हारूण- मिश्र पुलिस का अधिकारी।
आयशा- रोजर की साथी।
प्रिंस लुआगा- मारोगाटो कबीले के सरदार का पुत्र ।
माटू देवता- कबीले का देवता।

शीर्षक-
जैसा की उपन्यास का शीर्षक ब्राउन शुगर है तो स्वाभाविक है पाठक का ध्यान नशे की तरह ही जायेगा।
उपन्यास के प्रारंभिक पृष्ठ भी कुछ ऐसा ही लिखा है।
" ब्राउन शुगर...एक ऐसा खतरनाक नशा जो युवा पीढी को को मौत के समुद्र में धकेल रहा था।"
  हालांकि उपन्यास का उपर्युक्त पंक्तियों या शीर्षक से किसी भी प्रकार का कोई भी सबंध स्थापित नहीं होता।
अब पता नहीं लेखक/ प्रकाशक ने यह नाम कैस रख दिया।

गलतियाँ-
उपन्यास में कई जगह गलतियाँ है।
- होटल काॅन्टिनेटल में मिस टोटो का हत्यारा स्टेज पर टोटो की हत्या पहले करता है और उसके कमरे की तलाशी बाद में लेता है।
जबकी होता इसका विपरीत। अगर हत्यारा कमरे की तलाशी पहले लेता तो उसे मिस टोटो की हत्या करने की जरूरत भी न पङती और हत्या के बाद तलाशी लेने का वक्त कहां से मिल गया।

- पृष्ठ 97-100 में
होटल में कोरक और नानसी के सब्जी के बर्तन में दोनों को मारने के लिए जिंदा सांप डाल दिया जाता है।
कमाल है सब्जी में सांप और वह भी जिंदा।

 - कासिम उपन्यास का एक हास्य पात्र है। अफ्रीका के दौरे पर उसे साथ लेकर जाने का कोई औचित्य भी नहीं था।

समापन:-
  किसी भी कहानी का क्लाइमैक्स (समापन) उसका चरम बिंदु कहलाता है। पाठक की पूरी उत्सुकता होती है की अंत में क्या हुआ।
  इस उपन्यास के अंत तक पाठक भी यही सोचता है की अंत में क्या हुआ, क्या सारा खेल ब्राउन शुगर का है। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं था।
लेखक उपन्यास का समापन इतने अच्छे तरीके से न कर सका जितने की उम्मीद थी।

      रवि माथुर का प्रस्तुत उपन्यास एक मध्यम स्तर का उपन्यास है जो कई जगह अपनी कहानी से भटकता है लेकिन अंत में क्लाइमैक्स तक पहुंचता है।
  यह एक मध्यम स्तरीय उपन्यास है जिसे पाठक समय बिताने के लिए पढ सकता है।

-------_--
उपन्यास- ब्राउन शुगर
लेखक- रवि माथुर।
प्रकाशक- दुर्गा पॉकेट बुक्स, 315, ईश्वर पुरी, मेरठ- 250002
पृष्ठ- 207
मूल्य- 20₹

लेखक संपर्क-.
रवि माथुर
428/ 15 B
ईश्वर पुरी, मेरठ- 250002

Sunday, 5 November 2017

78. दौलत सबकी दुश्मन- अरुण अंबानी

रंजन दूबे और शोभराज चार्ल्स की प्रेयसी सुनीता वर्मा का कारनामा
--
दौलत सबकी दुश्मन, थ्रिलर उपन्यास, पठनीय।

  सांप पर विश्वास कर लेने वाला तो एक बार जिंदा बच भी सकता है- लेकिन जिसने रंजन दूबे पर विश्वास किया, वह तो गया ही गया। ( उपन्यास के अंदरूनी कंवर पृष्ठ से)
    अरुण अंबानी की कलम से निकला एक जबरदस्त उपन्यास है ' दौलत सबकी दुश्मन'।
  शोभराज चार्ल्स की पूर्व प्रेमिका सुनीता वर्मा शहर के बदमाश रंजन दूबे के साथ मिलकर एक ज्वैलर्स शाॅप को लूटने का प्लान बनाती है।
   लूट के बाद रंजन दूबे जैसा महाहरामी गद्दारी पर उतर आता है। और सुनीता वर्मा जैसी अंतर्राष्ट्रीय शातिर से चालाकी कर बैठता है।
   दूसरी तरफ रंजन दूबे के साथी एक- एक कर मौत को प्राप्त होते हैं वह भी तब जब सुनीता वर्मा पुलिस की गिरफ्त में है।
  स्वयं रंजन दूबे भी तब हैरान रह जाता है जब डकैती के दौरान एक मददगार की लाश उसके सामने पङी होती है, वह मददगार जिसके हत्या रंजन दूबे के साथियों ने की थी।
      क्या रंजन दूबे अंतर्राष्ट्रीय शातिर सुनीता वर्मा के सामने सफल हो पाया?
   - क्या सुनीता वर्मा पुलिस की पकङ से बच पायी?
   - रंजन दूबे के साथियों का हत्यारा कौन था?
   - मददगार की लाश बाहर कैसे निकल आयी?
ऐसे एक नहीं अनेक प्रश्नों के उत्तर अरुण अंबानी के उपन्यास ' दौलत सबकी दुश्मन' पढकर ही मिलेंगे।
सच है दौलत ऐसी दुश्मन होती है जो लालच करने वाले को अंततः खा जाती है, ठीक यही हुआ था इस उपन्यास के पात्रों के साथ। सब एक-एक कर अकाल मृत्यु को प्राप्त होते गये।

संवाद-
उपन्यास में संवाद सामान्य है, फिर भी कुछ कथन पठनीय है

" अपने दिमाग में ठूंस- ठूंस कर  यह बात भर लो सुनीता वर्मा, रंजन दूबे के साथ हरामीपन करने वाला खुद को पाताल में भी नहीं बचा सकता। महाहरामी हूँ मैं, महाहरामी।"- (पृष्ठ 63)
" इस देश में असली आजादी तब तक नहीं आने वाली जब तक वोटों की सौदागरी खत्म नहीं हो जाती।"-(पृष्ठ181)

हिंदी लोकप्रिय उपन्यास जगत में अगर एक फार्मूला चल पङा तो सब लेखक उसी को भूनाने की कोशिश करते हैं। जैसी की डकैती जैसा विषय जिस पर बहुत लेखकों ने लिखा है।
   प्रस्तुत उपन्यास में एक अच्छा प्रयोग है, वह है शोभराज चार्ल्स की प्रेमिका की भूमिका। हालांकि उपन्यास में स्वयं शोभराज चार्ल्स कहीं भी  उपस्थिति नहीं है पर उसका अहसास पूरे उपन्यास में उपस्थित रहता है।
   इस उपन्यास के पश्चात यह भी इच्छा जगी है की कहीं से शोभराज चार्ल्स या नटवर लाल जैसे शातिरों पर लिखा उपन्यास  मिल जाये तो पढने का आनंद बढ जाये।
अगर किसी पाठक को ऐसे किसी उपन्यास की जानकारी हो तो अवश्य बतायें‌।

     उपन्यास की कहानी एक ज्वैलरी शाॅप की डकैती पर आधारित सामान्य कहानी है, जिसमें लेखक ने अतिरिक्त कुछ भी सस्पेंश, रोमांच डालने की कोशिश नहीं की। लेकिन फिर भी कहानी किसी भी स्तर पर पाठक को निराश नहीं करती। अगर उपन्यास पाठक को एक बैठक में पढने के लिए मजबूर नहीं करती तो बीच में स्वयं को छोङने के लिए विवश भी नहीं करती।
  लेखक का प्रयास अच्छा है।
   उपन्यास पठनीय है जो पाठक को निराश नहीं करेगी।

लेखक-

अरुण अंबानी

339/12, बापू पुरवा , श्रमिक बस्ती 

किदवई नगर,

कानपुर- 208011

-----
उपन्यास- दौलत सबकी दुश्मन
लेखक- अरुण अंबानी
प्रकाशक- सूर्या पॉकेट बुक्स
पृष्ठ- 20
मूल्य- 239₹

77. बस्तर पाति- पत्रिका

Plz wait